तो इस वजह से महज 225 रूपए में उपलब्ध कराई जाएगी वैक्सीन?

0
235

भारत में कोरोना के मामलों में गिरावट देखने को नहीं मिल रही है। कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहें हैं। हैरानी की बात तो ये है कि अब इक दिन 60 हज़ार से भी अधिक मामले सामने आ रहें हैं जिसने अब तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं।

बढ़तें सक्रंमण को देखते हुए लोग राम भरोसे जी रहें हैं। वहीं, अब लोग कोरोना वैक्सीन के ट्रायल से उम्मीद लगाए बैठे हैं। इस मामले में लोगों को सबसे ज्यादा उम्मीदें ‘ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी’ की वैक्सीन से है जिसका ह्यूमन ट्रायल अंतिम चरण में है। मिली जानकारी के मुताबिक, भारत में गरीब और मध्यम वर्गीय परिवार को यह वैक्सीन महज 225 रुपये में मिल सकती है।

बता दें कि प्रमुख हैं। वैक्सीन बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनियों में शुमार ‘सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ भी ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी में विकसित की जा रही कोरोना वैक्सीन में पार्टनर है।

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया भारत में बड़े पैमाने पर इसका उत्पादन करेगी। कंपनी के CEO अदर पूनावाला ने बीते दिनों कहा कि, भारत में यह वैक्सीन कोवीशील्ड के नाम से बेची जाएगी।
रिपोर्ट के अनुसार सुरक्षा मंजूरी मिलने के बाद निम्न और मध्यम-आय वाले देशों में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका सीओवीआईडी -19 वैक्सीन को केवल 3 डॉलर यानी लगभग 225 रुपये की कीमत लोगों को दिया जा सकता है।

कोरोना महामारी को देखते हुए अब हर कोई इस सोच में होगा कि कंपनी इतने सस्ते में वैक्सीन कैसे उपलब्ध कराएगी? दरअसल, गेट्स फाउंडेशन जो वैक्सीन उत्पादन करने वाली कंपनियों को लगभग 150 मिलियन डॉलर का जोखिम-फंड दे रहा है। इस पैसे से सीरम कंपनी को विनिर्माण लागत को कम से कम करने में मदद मिलेगी।

बतादें कि CEO अदर पूनावाला ने बयान में कहा, “पूरी दुनिया में टीकाकरण और महामारी को रोकने के लिए यह सुनिश्चित करना महत्वपूर्ण है कि दुनिया के सबसे दूरदराज और सबसे गरीब देशों में सस्ता इलाज और निवारक उपायों की पहुंच संभव हो। इस एसोसिएशन के माध्यम से, हम इस भयानक बीमारी से लाखों लोगों के जीवन को बचाने के लिए अपने निरंतर प्रयासों को पूरा करना चाहते हैं।”

Updated by:- Chhavi Srivastava

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here