पंजाब के कई गांवों में नेताओं का बहिष्कार: पोस्टरों पर किसानों ने लिखा- जब तक कृषि कानूनों की वापसी नहीं, तब तक प्रवेश नहीं

0
47

कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का गुस्सा धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है। पंजाब के कई गांवों में ग्रामीणों ने नेताओं का बहिष्कार करना शुरू कर दिया है। पंजाब के बठिंडा जिले में कई गांवों में किसानों ने भारतीय किसान यूनियन एकता सिधुपुर के बैनर तले नेताओं के बहिष्कार के बोर्ड लगा दिए हैं। बोर्ड पर किसानों ने लिखा जब तक कृषि कानून वापस नहीं होते तब तक कोई राजनीतिक दल का नेता गांव में ना आए। इस बीच कोई नेता गांव में आ गया तो वह अपनी सेवा का खुद जिम्मेदार होगा।

पहले तलवंडी साबो के कई गांव में ऐसे बोर्ड किसानों ने लगाए थे। शुक्रवार को गांव नेहियांवाला, महमा सर्जा के किसान दर्शन सिंह, सुखदेव सिंह, बलदेव सिंह के साथ ही अन्य किसान कृषि कानूनों के खिलाफ अपने अपने गांव में केंद्र सरकार खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे। किसानों के हाथ में एक बैनर था, जिसमें नेताओं के बहिष्कार की चेतावनी लिखी थी।

 
किसानों ने कहा कि उन्होंने स्पष्ट तौर पर हर राजनीतिक दल को उक्त बोर्ड के माध्यम से चेतावनी दी है कि कृषि कानूनों की वापसी तक कोई भी नेता हमारे गांव न आए। अगर कोई नेता गांव में आ गया तो वो अपनी सेवा का खुद जिम्मेदार होगा। 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here